दाद खाज खुजली के कारण, दवा और घरेलू नुस्खे

दाद खाज खुजली एक गंभीर समस्या है | दाद खाज खुजली की दवा आपको बाजार में आसानी से मिल जाएगी | जिसे प्रयोग करने से आपको कुछ दिनों में आराम भी मिल सकता है लेकिन दाद खाज के साथ सबसे बड़ी परेशानी है इसका बार बार होना |

दाद को अंग्रेजी में रिंगवर्म और डर्माटोपिटोसिस (dermatophytosis) या टीनिया नामों से भी जाना जाता है | यह एक प्रकार का फंगल इन्फेक्शन होता है |  ये शरीर के किसी एक हिस्से में होकर शरीर के दूसरे हिस्सों में भी फ़ैल सकता है |

शरीर के अलग अलग हिस्सों में होने पर इसे अलग अलग नामों से पुकारा जाता है जैसे कि अगर दाद पैरों के अंगूठों के बीच में हो तो इसे एथलीट फुट (athlete’s foot) कहा जाता है | वही अगर दाद आपकी जांघों के बीच हो तो इसे जोक ईच (jock itch) कहते हैं |

बरसात के मौसम में दाद की समस्या बहुत अधिक हो जाती है | जिसका कारण है मौसम में मौजूद नमी | बरसात के मौसम में अगर हम त्वचा की साफ़ सफाई का ध्यान नहीं रखेंगे तो दाद की समस्या बढ़ सकती है |

बरसात के मौसम में मौजूद नमी और सही साफ़ सफाई के अलावा भी दाद खाज खुजली के बहुत से कारण हो सकते हैं | इन कारणों को जानकर हम दाद के संक्रमण को होने से पहले ही रोक सकते हैं |

आइये जानते हैं क्या हैं दाद खाज खुजली के कारण |

दाद खाज खुजली की दवा
दाद खाज खुजली की दवा

दाद खाज खुजली के कारण

दाद एक प्रकार का चर्म रोग है | कुछ लोगों में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने के कारण यानि इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने की वजह से बार बार दाद हो जाता है |

  • दाद संपर्क से बहुत जल्दी फैलता है | किसी दाद वाले व्यक्ति के संपर्क में आने से दाद की समस्या होने की सम्भावना बहुत अधिक होती है |
  • दाद को फ़ैलाने वाले फंगस मिट्टी में भी रहते हैं इसलिए ये मिट्टी से भी आप तक पहुँच कर दाद फैला सकते हैं |
  • कुछ जानवरों पर भी दाद फ़ैलाने वाला फंगस रहता है | इसलिए दाद खाज खुजली से बचने के लिए जानवरों के संपर्क से भी बचना चाहिए |
  • गर्मी में तंग वस्त्र पहनने की वजह से दाद के फंगस को बढ़ने के लिए सही वातावरण मिल जाता है | इसलिए अधिक तंग कपड़े नहीं पहनने चाहिए |
  • गीले कपड़ों और अंधेरे में फंगस जल्दी फैलता है और बढ़ता है | इसलिए गीले कपड़े जल्दी बदल लेने चाहिए और नहाने के बाद शरीर को अच्छे से सुखाने के बाद ही कपड़े पहनने चाहिएं |
  • तनाव की वजह से भी दाद खाज होने की सम्भावना बढ़ जाती है |
  • कुछ दवाएं शरीर एलर्जी करती है जिनकी वजह से भी दाद की समस्या हो सकती है |
  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी होने की वजह से बार बार दाद की समस्या हो जाती है |

दाद खाज खुजली की दवा और घरेलू नुस्खे

  1. सेब के सिरके से दाद के इलाज में मदद मिलती है | इसके लिए आप सेब का सिरका लेकर इसे दाद पर रुई के साथ लगाये | ऐसे दिन में 2 से 3 बार करे कुछ दिनों में ही दाद ठीक होने लगेगी |
  2. बेकिंग सोडा दाद को ठीक कर देता है | इसके लिए दो चम्मच बेकिंग सोडा लेकर इसमें थोडा सा पानी मिला ले और दाद वाले स्थान पर लगाये | इससे दाद कुछ ही दिनों में ठीक हो जाएगा |
  3. नारियल का तेल हर प्रकार की खुजली, दाद में लाभकारी होता है | क्यूंकि त्वचा को खुजली से आराम दिलाता है | इसके लिए दाद वाले स्थान पर रोजाना नारियल का तेल लगाये | 
  4. इमली के बीज लेकर इन्हें पीस ले और इसमें कुछ बुँदे निम्बू का रस मिला ले | इस मिश्रण को दाद पर लगाने से दाद बहुत जल्दी ठीक हो जाता है |
  5. नीम के पत्तो को पानी में उबाल ले और इस पानी को नहाने के पानी में मिलाकर रोजाना स्नान करे | इससे त्वचा पर से कीटाणुओं का पूरी तरह से नाश हो जाएगा और हर प्रकार की खुजली से आराम मिलेगा |
  6. दाद होने दूध में हल्दी डालकर पिए और दाद वाले स्थान पर हल्दी में थोडा सा पानी मिलाकर लगाये | इससे दाद जल्दी ठीक हो जाएगा |
  7. दाद का होना हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर काफी हद तक निर्भर करता है कुछ लोगो को बार बार दाद की समस्या हो जाती है क्यूंकि उनके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है | इसलिए अगर आप दाद से हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाये | इसके लिए आप रोजाना कुछ बुँदे तुलसी का रस पिए |

इसे भी पढ़ें

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Facebook
Google+
Google+
https://oldayurveda.com/daad-khaj-khujli-dawa-karan">
Twitter