मुलेठी के फायदे

मुलेठी का प्रयोग हम मिठाई ,टूथ पेस्ट, और पेय पदार्थों में स्वाद को बढ़ाने के लिए करते हैं | मुलेठी को हिंदी में मुल्थी के नाम से भी जाना जाता है | मुलेठी की जड़ का प्रयोग भी आयुर्वेद में दवा के रूप में किया जाता है | आइये जानते हैं मुलेठी के फायदे |

ये भी पढ़ें: पायरिया का सफल इलाज

मुलेठी के फायदे
मुलेठी के फायदे

यह जड़ीबूटी दुनिया भर में अपने लाभो के लिए मशहूर है | इसकी जड़ का स्वाद चीनी के मुकाबले अधिक मीठा होता है |

इसमें विटामिन बी, इ के इलावा फॉस्फोरस  कैल्शियम,आईरन, मैग्नीशियम ,पोटाशियम, सेलेनियम आदि भी पाए जाते हैं |

मुलेठी गले और शरीर के बहुत से दूसरे रोगों को दूर करती है |

मुलेठी के फायदे

  1. मुलेठी का प्रयोग मुँह और गले सम्बन्धी रोगों के उपचार के लिए किया जाता है | यदि मुँह बार बार सुख रहा हो या पानी की प्यास बार बार लग रही हो तो मुलेठी का  एक छोटा सा टुकड़ा जीभ पर रखकर चूसते रहे | इससे मुँह का सूखापन खत्म हो जाएगा |
  2. यदि आप गले के किसी रोग से परेशान हैं या बहुत आपको बहुत पुराने समय से खांसी की समस्या है तो मुलेठी का पाउडर का सेवन बहुत लाभदायक माना जाता है | इस पाउडर को बनाने के लिए दो मुलेठी के टुकड़े लीजिये और इन्हें अच्छी तरह से धो कर पीस लें | जब इसका चूर्ण बन जाए तो सुबह शाम एक एक चम्मच शहद मिलकर इस चूर्ण को खा लें | इस विधि का प्रयोग 8 -10 दिनों के लिए कीजिए | इसे पुरानी खांसी और गले की परेशानियों से छुटकारा मिलेगा |
  3. यदि पेट में अल्सर की समस्या से परेशान है तो मुलेठी की जड़ को पीस कर चूरन बना लीजिए और इसे कुछ दिनों के लिए सुबह खाली पेट सेवन कीजिए | कुछ ही दिनों में पेट की अल्सर की समस्या खत्म हो जाएगी |
  4. यदि आप बहुत अधिक शारीरिक थकान महसूस करते हैं तो मुलेठी के चूरन को एक गिलास दूध के साथ सेवन कीजिये | इससे शारीरिक थकावट बहुत जल्दी उतर जाएगी और आप अपने आप को एनर्जेटिक महसूस करेंगे |
  5. अस्थमा से पीड़ित होने पर आप  मुलेठी की जड़ से बनी चाय का सेवन कर सकते है | इसे बनाने के लिए आप मुलेठी की नरम जड़ को लीजिये,  इसे अच्छी तरह धो लीजिये | अब इसे मिक्सी में पीस लीजिये और एक गिलास पानी में एक चमच चीनी, सौंफ और समान मात्रा में मुलेठी की जड़  का पाउडर डाल कर उबाल लीजिये |  अब इसे थोड़ा ठंडा कर सेवन कीजिये | इससे आपको अस्थमा की बीमारी में बहुत आराम मिलेगा |
  6. यदि चोट लगने की वजह से सूजन या गहरा घाव हो गया है, तो मुलेठी का पाउडर को एक चम्मच घी में मिला कर गरम कर लीजिये | इसका एक लेप बन जाएगा जिसे घाव पर लगा लीजिये | इस लेप को दिन में दो तीन बार लगाएं |  इससे सूजन कम हो जाएगी और घाव भरने में मदद मिलेगी |
  7. मुलेठी का काढ़ा का सेवन लीवर सम्भदि रोगों को दूर करने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है |  इसके लिए आप मुलठी के एक दो टुकड़े लेकर उसे पीस ले | एक चूर्ण के रूप में बन जाने के बाद उसे एक गिलास पानी में डाल कर उबाल लीजिये | इस काढ़ें को दिन में तीन चार बार पिएं इससे लिवर को बहुत लाभ पहुंचता है |
  8. अगर आप मुँह के छालों से परेशान है तो मुलेठी के पेस्ट को छालों पर लगाने से बहुत लाभ मिलता है | इसके लिए मुलेठी पाउडर में सरसों का तेल मिलकर पेस्ट बना लें | अब इस पेस्ट को मुँह में छालों पर लगायें | कुछ दिन लगाने से आपको आराम मिल जाएगा |

ये भी पढ़ें

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Facebook
Google+
Google+
https://oldayurveda.com/mulethi-ke-fayde">
Twitter