वजन बढ़ाने और सेहत के वरदान है सोयाबीन

शाकाहारी लोगों के लिए सोयाबीन प्रोटीन का एक बहुत अच्छा विकल्प है | कच्चे सोयाबीन के 100 ग्राम में लगभग 36 ग्राम प्रोटीन होता है | सोयाबीन पूरी दुनिया में बहुत अधिक मात्रा में उगाई जाती है |  सोयाबीन से बहुत से दूसरे खाद्य उत्पाद बनाए जाते हैं जैसे कि दूध, टोफू, तेल और प्रोटीन उत्पाद | आइए जानते हैं सोयाबीन खाने के फायदे |

सोयाबीन वजन बढ़ाने, दिल को स्वस्थ रखने, कैंसर से बचाने, हड्डियों को मजबूत बनाने से लेकर शुगर जैसी बिमारियों से शरीर की रक्षा करता है | सोयाबीन में प्रोटीन के साथ अच्छी मात्रा में विटामिन, खनिज और दूसरे पोषक तत्व पाए जाते हैं | इसमें आइसोफ्लेवोंस नामक रसायन पाया जाता है जिसे लेने से महिलाओं में ओस्टियोपोरोसिस का खतरा बहुत कम हो जाता है |

ये भी पढ़ें: नीम के फायदे

सोयाबीन खाने के फायदे

सोयाबीन खाने के फायदे

शरीर को हष्ट पुष्ट बनाता है

सोयाबीन शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत है |  इसमें प्रोटीन की बहुत अच्छी मात्रा होती है जो शरीर में मसल मॉस को बढ़ाने में सहायक है | सोयाबीन में मौजूद प्रोटीन हमारे शरीर के मेटाबॉल्ज़िम को तंदुरुस्त बनाता है | प्रोटीन से हमारी टूटी हुई कोशिकाओं की मरम्मत होती है और नयी कोशिकाओं का निर्माण भी होता है|

जो लोग जिम में एक्सरसाइज करते हैं और मांसाहारी भोजन नहीं लेना चाहते उनके लिए सोयाबीन प्रोटीन का बहुत अच्छा स्रोत है | इसे आप टोफू, बड़ियाँ और रोस्टेड किसी भी रूप में लेकर अपनी रोजाना की प्रोटीन की जरूरत को पूरा कर सकते हैं |

ओस्टियोपोरोसिस से बचाता है

महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ साथ अक्सर ओस्टियोपोरोसिस की समस्या हो जाती है | सोयाबीन में आइसोफ्लेवोंस होता है जो शरीर को इस बीमारी से बचाता है | वैज्ञानिकों ने पाया कि आइसोफ्लेवोंस की रासायनिक संरचना एस्ट्रोजन की तरह ही होती है |

वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया कि इसका हड्डियों पर प्रभाव एस्ट्रोजन की तरह से ही हो सकता है | एक रिसर्च में ये बात साबित भी हो चुकी है कि अगर सोया प्रोटीन और आइसोफ्लेवोंस को साथ में प्रयोग किया जाए तो इससे हड्डियों का कमजोर होना रुक जाता है और ओस्टियोपोरोसिस को रोका जा सकता है |

दिल को स्वस्थ रखता है

सोयाबीन में अनसैचुरेटेड फैट होता है जो शरीर में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बढ़ने नहीं देता | इसमें मौजूद ओमेगा ३ फैटी एसिड हमारे दिल की रक्षा करता है और दिल को हार्ट अटैक के खतरे से बचाता है |

सोयाबीन में मौजूद फैटी एसिड्स हमारे शरीर के मसल्स की सही कार्यप्रणाली में मदद करते हैं | सोयाबीन में मौजूद फाइबर भी शरीर में कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने नहीं देता जिससे दिल स्वस्थ रहता है |

कैंसर से बचाता है

सोयाबीन पुरुषों और महिलाओं को बहुत से कैंसर से बचाता है | सोयाबीन में फ़यटोएस्ट्रोजन (phytoestrogen) होता है जो कि पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन (testosterone) को अधिक बनने से रोकता है जिससे पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर का खतरा कम हो जाता है |  

सोयाबीन का प्रयोग करने से महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर का खतरा भी बहुत कम हो जाता है | इसे एंटीऑक्सिडेंट्स की अच्छी मात्रा होने की वजह से ये शरीर में कैंसर पैदा करने वाले फ्री रेडिकल्स को जमा नहीं होने देता |

इसमें मौजूद फाइबर की अच्छी मात्रा पेट और आँतों को साफ़ करती है जिससे पेट के कैंसर का खतरा भी बहुत कम हो जाता है | इस तरह ये शरीर को बहुत से कैंसर से बचाता है |

वजन बढ़ाने में सहायक

अगर आपके शरीर पर अधिक फैट जमा हो गया हो या आपका मसल मास कम हो तो सोयाबीन का प्रयोग बहुत फायदेमंद है | सोयाबीन मोटापे को बढ़ने नहीं देता ये भूख को शांत रखता है और शरीर का वजन सही करने में मदद करता है |

अगर आपके पेट की चर्बी बढ़ जाती है और आपका वजन आपकी चर्बी की वजह से बढ़ रहा है तो वो आपके लिए नुक्सानदेह हो सकता है इसलिए जरूरी है कि आप अपने मसल मास को बढ़ाने पर अपना पूरा ध्यान लगाएं |

सोयाबीन में मौजूद प्रोटीन और फाइबर शरीर का वजन हैल्थी तरीके से बढ़ाते है और शरीर को स्वस्थ रखते हैं |

ये भी पढ़ें

Please follow and like us:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook
Facebook
Google+
Google+
https://oldayurveda.com/soyabean-khane-ke-fayde">
Twitter